04 June 2017

जानिए आँखों की खतरनाक बीमारी मोतियाबिंद के बारे में Cataract symptoms and causes



पिछली post में हम glaucoma के बारे में पढ़ चुके है जो एक eye disease है और आज भी हम एक ऐसे ही खतरनाक Eye disease के बारे में विस्तार से जानेंगे जिसका नाम मोतियाबिंद (cataracts) है।मोतियाबिंद लक्षण और कारण।


मोतियाबिंद (cataract) भारत में तेजी से बढ़ने वाली बीमारियो (diseases) में से एक है।
कैटरेक्ट भारत में दृष्टि विहीनता का एक प्रमुख कारण है।
यह रोग मुख्यतया अधिक उम्र के लोगो में पैदा होता है।मोतियाबिंद आँखों की सबसे बड़ी बीमारी है।मोतियाबिंद आँखों के पारदर्शी लेंस की अपारदर्शिता है यदि यह धुन्धला हो जाता है तो फिर लेंस के माध्यम से प्रकाश को गुजरने से रोकता है जिससे आँखों में धुन्धलापन छा जाता है।
मोतियाबिंद cataracts के लिए कुछ कारण भी जिम्मेदार हो सकते है जैसे- बुढ़ापा,आँखों में चोट लगना,आँखों में लगातार जलन,मधुमेह और स्टीरॉयड का लंबे समय तक प्रयोग करना कैटरेक्ट के प्रमुख कारण हैं।
यह बीमारी जन्मजात भी हो सकती है यदि गर्भावस्था के दौरान माँ को संक्रमण है तो होने वाले बच्चे को जन्म से ही मोतियाबिन्द हो सकता है।
अब जानिए मोतियाबिंद के लक्षणो के बारे में।


ग्लूकोमा आँखों से संबंधी  बीमारी

Glaucoma-eye disease


मोतियाबिंद के लक्षण (character of cataracts)

1.नेत्र की पुतली धुंधली हो जाती है।
2.आँखों की दृष्टि में धीरे-धीरे कमी आ जाती है।
3. दोनों आँखे सामान रूप से प्रभावित होती है।
4.आँखों में दर्द नही होता है।
5.बार-बार नंबर बदलने से चश्मे भी बदलने पड़ते है।
उपर्युक्त लक्षण दिखाई देने पर नेत्र चिकित्सक से संपर्क करे।

अगर हम मोतियाबिंद को रोकने की बात करे तो cataract को रोका नही जा सकता है लेकिन सर्जरी (cataract surgery) के उपाय से मोतियाबिंद के कारण होने वाली दृष्टि विहीनता से बचा जा सकता है।



मोतियाबिंद से बचने के लिए क्या उपचार करे-What to do to prevent cataracts-

उपचार-
1.मोतियाबिंद की सर्जरी लोकल एनेस्थीसिया द्वारा की जाती है जो बहुत ही सरल होती है इसलिए surgery करवाये।
2.कोई भी दवाई मोतियाबिंद को ठीक नही कर सकती है न ही इसकी प्रक्रिया की गति को कम कर सकती है।
3 धुंधले लेंस को सर्जरी के द्वारा हटाकर और इंट्रा ऑक्यूलर लेन्स लगाकर सामान्य दृष्टि वापस लायी जा सकती है।
4 मोतियाबिंद (cataract) के ऑपरेशन की सेवाएं सभी अस्पतालो(hospital) में नि:शुल्क है।



ऑपरेशन (cataract surgery)के बाद क्या-क्या देखभाल करे-
1.काला चश्मा पहने रखे।
2. ऑपरेशन सर्जन के अनुसार आई ड्रॉप समय-समय डाले।
3.आँखों को तेज रौशनी व धूल से बचाएं।
4.आँखों पर मरहम का इस्तेमाल करे।
5.ऑपरेशन के एक सप्ताह बाद आँखों की जाँच के लिए चिकित्सक के बताये अनुसार 6-7 सप्ताह बाद नेत्र सर्जन से संपर्क करे।

This Is The Oldest Page