03 November 2017

Reet Exam Pattern 2018 रीट एग्जाम की रणनीति

Reet Exam Pattern 

रीट एग्जाम की रणनीति

आज हम Reet exam की रणनीति के ऊपर चर्चा करेंगे। कुछ लोगों को तो इसके बारे में अच्छे से पता होगा क्योंकि वह experience उनके पास है उनको तो पता होगा कि इस Reet Exam Pattern क्या है और कैसे-कैसे,कितने-कितने अंको का विभाजन है। पूरे रीट सिलेबस (Reet Syllabus) में कौन सा विभाजन कितने नंबर का है और किस विभाजन में कितने अंक प्राप्त किए जा सकते हैं। जबकि कुछ लोग क्षेत्र में अभी नए हैं। ये भी पुस्तकों व सिलेबस आदि से परिचित होंगे।

Reet का पैटर्न क्या है-Reet Exam Pattern

रीट की बात करें तो रीट के प्रसंग में 2 लेवल है-
 1. First level प्रथम स्तर
 2. Second level द्वितीय स्तर
    जो कक्षा 1 से 5 को पढ़ाने के लिए योग्य हैं उनको फर्स्ट लेवल और जो कक्षा 6 से 8 को पढ़ाने के लिए योग्य है उनको सेकंड लेवल के अध्यापक कहा जाता है।
पहले सभी टीचर्स को कॉमन टीचर समझा जाता था। उसके लिए अलग से कोई सब्जेक्ट नहीं थे। लेकिन जब से RTE Norms आए हैं उसके बाद में कक्षा 6 से 8 के लिए अलग जो विषय के विशेषज्ञ है उनके आधार पर बांटा गया है।
पहले Stc और b.ed दोनों के लिए कॉमन हुआ करता था लेकिन अब यह डिस्ट्रीब्यूशन इसलिए कर दिया गया ताकि जो प्राथमिक कक्षाएं हैं कक्षा 1 से 5 उनको stc वाला अध्यापक पढ़ाएं और कक्षा 6 से 8 तक के छात्रों को B.Ed वाला अध्यापक पढ़ाये।
Reet exam pattern

यहां पर फर्स्ट लेवल हो या सेकंड लेवल हो दोनों स्तरो पर प्रश्नों की जो सख्या है जो सम्मान है दोनों में 150-150 प्रश्न पूछे जाते हैं। दोनों में अंकों का जो विभाजन किया गया है वह भी समान है। कैसे, आओ जानते हैं-
फर्स्ट लेवल में जो पहले 30 प्रश्न है वो साइकोलोजी या बाल शिक्षा से संबंधित है जबकि second level में भी यही है।
फिर 30 प्रश्न भाषा फर्स्ट से पूछे जाते(हिंदी,अंग्रेजी)हैं जो दोनों में समान हैं।
फिर 30 प्रश्न भाषा सेकंड से पूछे जाते(हिंदी, अंग्रेजी, संस्कृत, हिंदी, पंजाबी आदि) हैं जो दोनों में सम्मान है।
अंतिम 60 प्रश्न विषयगत होते हैं फर्स्ट लेवल में पर्यावरण विज्ञान,मैथ्स को लेकर 30- 30 प्रश्न जबकि सेकंड लेवल में एसएसटी को लेकर 60 प्रश्न तथा science and maths के 30-30 प्रश्न पूछे जाते हैं।
अंतिम 60 प्रश्न भाषागत नहीं होते हैं यह केवल विषयगत होते हैं आप जिस विषय के टीचर बनना चाहते हैं उसी से संबंधित आपको यह प्रश्न पूछे जाएंगे।

हम यहां पर चर्चा कर रहे हैं भाषा वाले जो 60 प्रश्न है उनके बारे में उनकी क्योंकि आप subject की कितनी भी तैयारी क्यों न कर ले (जैसे-साइकोलॉजी,sst,विज्ञान, गणित आदि) उसमें संपूर्णता नहीं आ सकती यानी कि उसमें पूरे नंबर कभी नहीं आ सकते। क्योंकि 60 मैं से 60 आने की संभावना बहुत कम रहती है चाहे आप complete question क्यों ना करदे।
रीट में जो मेरिट बनेगी या अध्यापक के लिए जो मेरिट का division होता है वह पूरे overall merit के आधार पर होता है तो किसी भी पार्ट में यदि आप expertness दिखा रहे हैं तो आपके लिए पूरे के पूरे स्कोर में वह बहुत फायदेमंद होगी।
जैसे मैं चर्चा करूं कि साइकोलॉजी (psychology) आपकी बहुत बढ़िया है और मान लो 30 प्रश्नों में से आप 28 या 30 कर देते हैं तो सीधी सी बात है कि आप औरों से बेहतर हो जाएंगे। इसी प्रकार से language के प्रसंग में भी है।
Reet Exam की दृष्टि से 2 language चुननी है सामान्य तौर पर हम हिंदी भाषा क्षेत्र के हैं तो हम एक भाषा के रूप में हिंदी को तो चुनते ही है। इसका कोई ऑप्शन नहीं रखते चाहे हिंदी में नंबर कम ही आए। लेकिन चुनने की दृष्टि से हमारी सहूलियत रहती है हिंदी को चुनने में। हिंदी चुनने के बाद इसमें गलतियां भी कई होती है लेकिन इससे बेहतर ऑप्शन और कोई नहीं है। लेकिन जब दूसरी लैंग्वेज की बात आती है तो हमारे मन में शंका होने लगती है कि अंग्रेजी ले या संस्कृत।
यदि Sanskrit background के हैं तो वो 100% संस्कृत लेंगे ही लेंगे। लेकिन फिर भी कोई साइंस मैथ background का है या फिर जिसने कभी संस्कृत पढ़ी ही नहीं, उसके पास दो ऑप्शन आ जाते हैं की यादों में संस्कृत को लो या फिर अंग्रेजी।
सामान्य तौर पर हम जिस क्षेत्र के रहने वाले हैं इनके पास दो ही ऑप्शन है या तो आप संस्कृत को लेंगे या फिर अंग्रेजी को second language के रूप में।


भाषा चुनने हेतु सलाह -

Sanskrit and Hindi language की बात करें तो दोनों में काफी हद तक समानए हैं। यदि आप हिंदी चुन रहे हैं तो संस्कृत ज्यादा बेहतर होगा। संस्कृत और हिंदी आपस में एक-दूसरे के ऊपर प्रभाव डालेंगे,यदि आपका हिंदी बेहतर है तो संस्कृत बहुत बढ़िया होगा। और यदि आपका संस्कृत बढ़िया है या फिर सामान्य भी है तो हिंदी 100% बेहतर होगी। वह कैसे-जैसे कि आप जानते हैं संस्कृत सबसे पुरानी भाषा (old language) है हमारे दैनिक व्यवहार की भाषा भी संस्कृत ही थी। संस्कृत के माध्यम से ही अन्य भाषाएं निकली है। हिंदी तो सीधे तौर पर संस्कृत से ही निकली हुई भाषा है। संस्कृत के जितने भी Rules and regulation है ग्रामर के वह सारे के सारे हिंदी के ऊपर लागू होते हैं। तो एक प्रकार से देखा जाए तो यह दोनों एक ही कुटुंब के सदस्य हैं दोनों। अगर हिंदी को समझ गए तो संस्कृत समझ में आएगी और यदि संस्कृत समझ गए तो हिंदी समझ जाओगे। दोनों भाषाएं आपस में जुड़ी हुई है।
और बेहतर ऑप्शन इसलिए होगा कि आप संस्कृत के अलावा कोई दूसरी भाषा चुनते हैं। तो उनका उस भाषा के साथ प्रत्यक्ष रूप से कोई संबंध है ही नहीं हिंदी के साथ इंग्लिश का कोई प्रत्यक्ष रूप से संबंध है ही नहीं या दोनों में कोई जुड़ाव है ही नहीं। यह आपको सेपरेट सब्जेक्ट के रूप में पढ़ना होगा। तो बेहतर यह होगा संस्कृत भाषा और हिंदी भाषा दोनों को आप चुनें इससे बेहतर कॉन्बिनेशन नहीं हो सकता। और यदि इन combination की बात करें। तो 60 प्रश्नों में से आप अधिक से अधिक प्रश्नों का सही जवाब दे सकते हैं।
हिंदी की तो मैं कह नहीं सकता लेकिन कोई बंदा अगर संस्कृत की ठीक से तैयारी कर ले तो वह 30 में से 30 मार्क्स ला सकता है और बहुत ने रीट एग्जाम मैं प्राप्त भी किए हैं।
हिंदी लेेकर भी आप संस्कृत भाषा नहीं ले रहे हैं तो भी अप्रत्यक्ष रूप से संस्कृत आपको पूरी पढ़नी है। तो देखा जाए संस्कृत आपका अच्छे से तैयार है तो हिंदी के लिए आपको ज्यादा परेशान होने की आवश्यकता नहीं रहेगी। क्योंकि संस्कृत की जितनी भी grammar है वह पूरी यथावत हिंदी में है फर्क इतना सा है संस्कृत में शब्द रूप धातु रूप होते हैं हिंदी में शब्द रूप धातु रूप नहीं है बस। और बाकी कोई अंतर नहीं है। जितने भी शिक्षण के पार्ट हैं सारे के सारे सम्मान है। फिर इससे बेहतर ऑप्शन संभव ही नहीं है।
एक तरह से देखा जाए तो हिंदी भाषा को थोड़ा सा शास्त्रीय रूप दे रहे हैं। थोड़ा सा एडिशनल काम कर रहे हैं। तो आप का संस्कृत तैयार हो रहा है। और मैं तो यह मानता हूं कि जिसकी संस्कृत अच्छी तैयार होगी वह हिंदी में कभी धोखा नहीं खा सकता।
यदि आप संस्कृत को पूरी तरह से कवर कर लेते हैं तो हिंदी भी आपकी कवर हो जाती है। और देखा जाए तो यह जो 60 प्रश्न है। इन की तैयारी एक साथ होती है इनको आप अलग अलग नहीं समझे। इसलिए आपको संस्कृत चुननी चाहिए।

RTET Exam Pattern 2018 – Paper – I

Rajasthan TET Level I Exam Paper Pattern 2018
SnoSubjectNumber of QuestionsTotal MarksDuration of Exam
1Language I (Hindi, Sindhi, English, Sanskrit, Urdu, Punjabi, & Gujarati)30302 1/2 hrs
2Language II (Hindi, English, Sanskrit, Urdu, Sindhi, Punjabi, and Gujarati)3030
3Mathematics3030
4Child Development and Pedagogy3030
5Environmental Studies3030
Total150

REET Paper – II Exam Pattern 2018

RTET Level II Exam Paper Pattern 2018
SnoSubjectNumber of QustionsTotal MarksDuration of Exam
1Mathematics and Science (for maths & science teachers)
or
Social Science (for SocialScience teachers)
60602 1/2 hrs
2Child Development and Pedagogy3030
3Language I (Hindi, English, Sanskrit, Sindhi, Urdu, Punjabi, & Gujarati)3030
4Language II (Hindi, English, Urdu, Sindhi, Sanskrit, Punjabi, and Gujarati)3030
Total150

Download REET Exam Pattern 2018 from official website

Read also-


EmoticonEmoticon