22 February 2018

B.ed lesson plan for social science in hindi बीएड लेसन प्लान (ग्रामीण जीवन)

लेसन प्लान इन हिंदी,

पाठ योजना बी.एड. लेसन प्लान सामाजिक विज्ञान

नोट:- लेसन प्लान को ठीक सारणी बद्ध रूप से देखने के लिए Desktop browser का इस्तेमाल करें।

S.st lesson plan B.Ed

विद्यालय का नाम- विवेकानंद शिक्षण संस्थान सीकर,राजस्थान
दिनांक- 29-12--2017                                             कक्षा-8   
वर्ग- C                                                                     कालांश-3
विषय-सामान्य अध्ययन                                              समय अवधि-45 मिनट

प्रकरण-ग्रामीण जीवन (Rural Life)


शिक्षण उद्देश्य-


उद्देश्य
अपेक्षित व्यवहारगत परिवर्तन
1.ज्ञानात्मक
1. विद्यार्थी ग्रामीण जीवन के बारे में प्रत्यास्मरण कर सकेंगे।
2. विद्यार्थी ग्रामीण जीवन के तथ्यों का प्रत्यभिज्ञान कर सकेंगे।
2.अवबोध
1. छात्र ग्रामीण जीवन की व्याख्या कर सकेंगे।
2. विद्यार्थी ग्रामीण और शहरी जीवन का तुलनात्मक अध्ययन कर सकेंगे।
3.अनुप्रयोगात्मक
1. विद्यार्थी ग्रामीण जीवन के विभिन्न बिंदुओं को पढ़कर निष्कर्ष निकाल सकेंगे।
2. विद्यार्थी ग्रामीण जीवन के बारे में पढ़कर जानकारी प्राप्त कर सकेंगे।
4.कोशल
1. विद्यार्थी ग्रामीण जीवन के तथ्यों को रेखा चित्र द्वारा प्रदर्शित कर सकेंगे।
2. विद्यार्थी ग्रामीण जीवन के तथ्यों का प्रतिरूप निर्मित कर सकेंगे।
5.अभिरुचि
1. विद्यार्थी ग्रामीण जीवन के तथ्यों में रुचि लेंगे।
2. विद्यार्थी ग्रामीण जीवन की अधिक जानकारी के लिए अनेक पत्र-पत्रिकाओं में रुचि ले सकेंगे।
6. अभिवृत्ति
1. विद्यार्थी मे ग्रामीण जीवन का महत्व व उपयोगिता के प्रति अभिवृत्ति का विकास हो सकेगा।
2. विद्यार्थियों मैं ग्रामीण जीवन के तथ्यों के बारे में सकारात्मक दृष्टिकोण का विकास हो सकेगा।











आवश्यक सामग्री:-
  श्वेत वर्तिका (चाक), लपेट-फलक,संकेतक, चार्ट व अन्य कक्षा उपयोगी सामग्री आदि।
ग्रामीण जीवन को प्रदर्शित करता हुआ चार्ट।

 शिक्षण बिन्दु:-
           1. ग्रामीण जीवन का अर्थ    2. ग्रामीण जीवन में हानियां     3. ग्रामीण जीवन में लाभ

शिक्षण विधि-
                     व्याख्यान विधि और प्रश्नोत्तर विधि।
 पूर्व ज्ञान:-
          विद्यार्थी ग्रामीण जीवन के बारे में पूर्व से ही सामान्य जानकारी रखते हैं।
      प्रस्तावना:-

क्र..
छात्राध्याप्क क्रियाएं
विधार्थी क्रियाएं
1.
विश्व में जनसंख्या की दृष्टि से प्रथम स्थान किस देश का है?
    चीन का
2.
चीन के बाद दूसरा स्थान किस देश का है?
   भारत का
3.
2001 तक भारत की जनसंख्या कितनी थी?
   102.75 करोड़
4.
इस जनसंख्या का अधिकांश भाग कहां निवास करता है?
   ग्रामीण क्षेत्रों में
5.
ग्रामीण जीवन के बारे में आप क्या जानते हैं?
   समस्यात्मक
     उद्देश्य कथन:-
                    अच्छा तो छात्रों आज हम ग्रामीण जीवन के बारे में विस्तार से अध्ययन करेंगे।


     प्रस्तुतीकरण:-
शिक्षण बिन्दु
छात्राध्याप्क क्रियाएं
विधार्थी क्रियाएं
शिक्षण कौशल व सहायक सामग्री
श्यामपट्ट सार
1. ग्रामीण जीवन का अर्थ -
विकासात्मक प्रश्न-
 1. ग्रामीण जीवन किसे कहते हैं?
 2. गांव का मुखिया क्या कहलाता है?
 3. गांव वालों का प्रमुख व्यवसाय क्या होता है?
 4. गांव में मनोरंजन का साधन क्या है?

गांव में रहने वाले लोगों के जीवन को
सरपंच

कृषि व पशुपालन

सांस्कृतिक कार्यक्रम


पुनर्बलन कौशल
प्रश्नोत्तर कौशल 
व्याख्यान कौशल 
श्यामपट्ट कौशल


छात्राध्याप्क कथन-
  लोग गांव में रहकर जीवन बिताते हैं उसी को ग्रामीण जीवन कहते हैं प्रत्येक गांव का एक मुखिया होता है जिसे सरपंच कहते हैं।
गांवों में रहने वाले व्यक्ति मुख्य रूप से कृषि व पशुपालन का कार्य करते हैं। इसके साथ ही उनके कुछ मनोरंजन के साधन भी होते हैं यह अधिकांशत: सांस्कृतिक कार्यक्रम होते हैं।

बोध प्रश्न-
1. गांवों में मनोरंजन का प्रमुख साधन है?
2. गांव का मुखिया होता है?







विद्यार्थी तथ्य को ध्यानपूर्वक सुन कर अभ्यास पुस्तिका में नोट करेंगे।



सांस्कृतिक कार्यक्रम
सरपंच





लपेट फलक चार्ट श्वेत वर्तिका झाड़न संकेतक आदि कक्षा उपयोगी सामग्री।





गांव के लोगों के जीवन को ग्रामीण जीवन कहते हैं गांव का मुखिया सरपंच कहलाता है।
2. ग्रामीण जीवन में हानियां
विकासात्मक प्रश्न-
1. गांव में रहने वाले युवाओं की मुख्य समस्या क्या है?
2. गांव में शिक्षा का प्रसार क्यों नहीं हो पाता है?
3. गांव में चिकित्सा केंद्र ना होने के क्या परिणाम होते हैं?
4. ग्रामीण जीवन में पाई जाने वाली असुविधाएं बताइए ?


रोजगार की

जागरूकता का अभाव

असमय लोगों की मृत्यु


बिजली सड़क यातायात का अभाव



पुनर्बलन कौशल
प्रश्नोत्तर कौशल 
व्याख्यान कौशल 

श्यामपट्ट कौशल

छात्राध्यापक कथन
     गांव के युवाओं की मुख्य समस्या रोजगार की होती है। गांव में जागरूकता का अभाव होता है इसी कारण यहां शिक्षा का विकास नहीं हो पाता है। गांव में चिकित्सा केंद्रों का अभाव पाया जाता है और रोगों से पीड़ित लोगों को शहर ले जाते समय उनकी मौत हो जाती है। तथा गांव में अनेकों असुविधाएं पाई जाती है सड़के, बिजली व यातायात के साधन आदि का भी अभाव पाया जाता है।





विद्यार्थी तथ्य को ध्यानपूर्वक सुनकर समझेंगे।







लपेट फलक चार्ट श्वेत वर्तिका झाड़न संकेतक आदि कक्षा उपयोगी सामग्री।




चिकित्सा सुविधा ना होने के कारण लोगों की असहाय मृत्यु हो जाती है।
3. ग्रामीण जीवन में लाभ-
विकासात्मक प्रश्न-
1. गांव का वातावरण कैसा होता है?
2. गांव के चारों तरफ फैली होती है?
3. ग्रामीण जीवन पूरी तरह से होता है?
4. एक आदर्श गांव कैसा होता है?

शुद्ध व स्वच्छ

हरियाली


खुशहाल

जो पूरी तरह विकसित हो


पुनर्बलन कौशल
प्रश्नोत्तर कौशल 
व्याख्यान कौशल 

श्यामपट्ट कौशल


छात्राध्याप्क कथन-
   गांव का वातावरण एकदम शुद्ध व स्वच्छ होता है। गांव में चारों तरफ हरियाली छाई रहती है तथा यहां शुद्ध हवा व शुद्ध पानी मिलता है।
    गांव का वातावरण पूरी तरह से शुद्ध होता है। गांव में ताजा सब्जियां दूध दही आदि प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। और गांव के लोगों में सहयोग की भावना पाई जाती है। गांव में गाय,भैंस बकरी, पक्षी,खेत,खलियान आदि मनमोहने वाली चीजें होती है।

बोध प्रश्न-
1. गांव का वातावरण कैसा होता है?








विद्यार्थी तथ्य को ध्यानपूर्वक सुनेंगे तथा तथ्य को अभ्यास पुस्तिका में नोट करेंगे।








शुद्ध व स्वच्छ













लपेट फलक चार्ट श्वेत वर्तिका झाड़न संकेतक आदि कक्षा उपयोगी सामग्री।








गांव का वातावरण शुद्ध होता है यहां शुद्ध हवा, शुद्ध पानी वह खुशहाल जीवन होता है।

मूल्यांकन प्रश्न-
       
             1. गांव का वातावरण कैसा होता है।
               A. शुद्ध             B.अशुद्ध        C. दूषित       D. कैसा भी नहीं       
             2. भारत की अधिकांश जनता___________में निवास करती है
             3. गांव में रोजगार की समस्या होती है ?     हां/ ना
             4. कृषि करने वाला कहलाता है?              किसान/ सरपंच
             5. ग्रामीण जीवन के लाभ बताइए।

गृहकार्य प्रश्न-
              1. ग्रामीण जीवन में हानियों के बारे में संक्षिप्त वर्णन कीजिए?

     पर्यवेक्षक टिप्पणी                                                             हस्ताक्षर पर्यवेक्षक



Read Also>