06 September 2018

किडनी रोग- पथरी के लक्षण kidney stone symptoms

Tags

    kidney stone

 दोस्तों आज हम बात करेंगे मानव शरीर में पाए जाने वाले एक विशेष अंग की, जो एक उत्सर्जन अंग के रूप में कार्य करता है।
किडनी हमारे शरीर का महत्वपूर्ण अंग है। इसलिए इसमें होने वाले रोगों से बचना बहुत जरूरी होता है। आज हम यहां चर्चा करेंगे की किस प्रकार से हम अपनी किडनी का ख्याल रख सकते है।
Kidney Disease transplant and stone disease symptoms
वैसे कहा जाता है कि किसी भी रोग से बचने के लिए "बचाव ही सबसे बढ़िया उपचार" होता है।
    किडनी का हिंदी रूपांतरण  - गुर्दे kidney
    मानव शरीर में किडनी की संख्या - 2
    किडनी का आकार  - 10cm लंबी, 3 cm मोटी
    आकृति - सेम के बीज के सम्मान
    किडनी का रंग - हल्का गुलाबी
    किडनी के कार्य - मुख्य उत्सर्जक अंग के रूप में
    किडनी के रोग - पथरी होना, जलन होना, सूजन                              आना, यूरिया का बढ़ना, 
                          पेशाब में खून आना।

यदि किडनी की बीमारी की शुरूआत में पहचान कर ली जाए तो रोग को बढ़ने से बचाया जा सकता है ।किडनी से संबंधित डायलिसिस (dialysis ) और किडनी ट्रांसप्लांट (kidney transplant) खर्चीली चिकित्सा विधियां हैं इसलिए किडनी के बचाव के लिए जागरूक होना बहुत जरूरी है।

 दोनों किडनी के फेल (Renal kidney failure) होने के बाद डायलिसिस पर रहते हुए इंसान के लिए जीना बहुत कठिन होता है। 
     बहुत से लोग बीमारी के सामने हारने के बजाय डायलिसिस पर रहते हुए सफलता पूर्वक अपना जीवन जी रहे हैं।

शरीर में किडनी कहां रहती है? Where is the kidney in the body

 मानव शरीर के आंतरिक भाग में रीड की हड्डी के दोनों तरफ अंतिम पसली के नीचे स्थित होती है।
किडनी का वजन करीब डेढ़ सौ ग्राम होता है
किडनी की लंबाई उम्र और व्यक्ति की लंबाई के अनुसार करीब 9-12 cm होती है।

गुर्दे कैसे काम करते हैं? How do kidneys work-

 किडनी की संरचनात्मक और कार्यात्मक इकाई नेफ्रोंस होती है।
किडनी में लाखों की संख्या में नेफ्रॉन होते हैं।
इसकी दो फंक्शन इकाई होती है पहली glomerulus और दूसरी tubules.
ह्रदय पंप से पंपित होकर रक्त किडनी में पहुंचता है जिसे glomerulus filter करता है।
इसके बाद tubules blood मैं शरीर के आवश्यक तत्वों को observe कर लेता है और जहरीले तत्वों को मूत्र के रूप में बाहर निकाल देता है।
किडनी शरीर में पानी की मात्रा को संतुलित करने का कार्य भी करती है।
समय-समय पर किडनी मूत्र को पतला और गाढ़ा करने का भी कार्य करती है।

क्या एक किडनी से चल सकता है काम ? Can Work From a Kidney-

  अक्सर लोग इस बात को लेकर चिंतित रहते हैं कि क्या एक किडनी के सहारे व्यक्ति जी सकता है। तो हां
अगर किसी व्यक्ति की दोनों में से एक किडनी खराब हो जाए तो भी जिया जा सकता है।
डायलिसिस दो प्रकार का होता है।
1. CAPD      2. HEMODIALYSIS

Diabetes, high blood pressure और संक्रमण यह तीनों किडनी फेल होने के मुख्य कारण है।
सावधान लेबोरेटरी सांचौ जैसे सीरम क्रिएटिनिन और यूरिन मैं प्रोटीन की उपस्थिति की जांच में किडनी खराब होने की शुरूआत होने का समय पर पता लगाया जा सकता है ।
गुर्दे खराब मरीजों में हार्ट अटैक की संभावना बढ़ जाती है।
  किडनी खराब (kidney failure) मरीज का इलाज बहुत महंगा होता है इसलिए ज्यादातर लोग इसके इलाज से लाभान्वित नहीं हो पाते।


इस प्रकार बरतें सावधानी-

✓Blood pressure को नियंत्रित रखें।
✓खाने में पोटेशियम की मात्रा कम ले।
✓नमक और पानी की मात्रा चिकित्सक की सलाह अनुसार लें।
✓अगर डायबिटीज है तो शक्कर की मात्रा कम से कम करें।
✓दर्द निवारक दवाइयों का सेवन ना करें।
✓नियमित रूप से प्रोटीन का सेवन सही मात्रा में ही करें।
✓चिकित्सकीय परामर्श के बाद ही दवा ले।


इस प्रकार से रखें ध्यान Keep in mind like this-

✓नियमित व्यायाम करें।
✓धूम्रपान ना करें।
✓ वजन पर नियंत्रण रखें
✓शराब का सेवन नहीं करें।
✓ समय-समय पर कोलेस्ट्रॉल की मात्रा की जांच कराएं।
✓नियमित चिकित्सक से जांच कराएं।
✓शरीर में पानी की मात्रा को बनाए रखें।
✓ पारिवारिक बीमारियां हो तो ध्यान रखें।

ऐसे पहचाने किडनी के रोग को Disease of such recognized kidneys-


✓किडनी रोग के लक्षण Symptoms of kidney disease-

✓भूख कम लगना।
✓उल्टी का मन होना।
✓थकान होना।
✓ हाथ पैर में दर्द होना।
✓पेशाब में तकलीफ ओर दर्द होना।
✓मूत्र में झाग आना।
✓ गुलाबी व गहरा रंग का पेशाब आना।
✓ बार बार यूरिन आना या कम आना। 
✓आंखों के नीचे सूजन आना।
✓ चेहरे हाथ पैर टखना व पैरों में सूजन आना।
✓शरीर में खुजली होना।


कारण reason)-


✓मधुमेह diabetes 
✓उच्च रक्तचाप high blood pressure
✓पथरी Calculus
✓ मूत्र मार्ग का संक्रमण Urinary tract infection
✓पॉलीसिस्टिक डिजीज Polycystic disease।


Read Also-
दुबले पतले शरीर को मोटा तगड़ा बनाने के आसान उपाय how to gain weight
हल्के व्यायाम से कैसे बने फुली फिट