पुलिस थाने से गाड़ी कैसे छुड़ाएं How to get a vehicle out of a police station

   How to get a vehicle out of a police station

    अगर आपकी गाड़ी पुलिस स्टेशन में जब्त कर ली गई है तो उसे किस तरीके से छुड़वाया जाता है। सबसे पहले जान लेते हैं    nearest police station

गाड़ी क्यों जप्त होती है(Why is a car seized?)-


गाड़ी जप्त होने के अनेक कारण हो सकते हैं इनमें से मुख्य निम्न प्रकार हैं-
➧गाड़ी से एक्सीडेंट करने पर
➧किसी दूसरे ने आपकी गाड़ी का एक्सीडेंट कर दिया हो तब।
➧आपने बहुत ही फास्ट ड्राइविंग की हो जिससे सड़क पर चलने वाले लोगों की जान का खतरा बन गया हो तब।
➧जब आपने शराब पीकर गाड़ी चलाई हो तब।
➧आपकी गाड़ी चोरी हो गई हो और आपने f.i.r. लिखा रखी हो उसके बाद पुलिस ऑफिसर ने गाड़ी को ढूंढ लिया हो और थाने में जमा कर ली गई हो तब।
➧इनके अलावा और भी कई कारण हो सकते हैं जिनके कारण आपकी गाड़ी पुलिस थाने में जप्त कर ली जाती है।

पुलिस थाने से गाड़ी कैसे छुड़ाएं(How to get a vehicle out of a police station)-

👉 पुलिस थाने से गाड़ी कैसे छुड़ाएं(How to get a vehicle out of a police station)-

चाहे किसी भी कारण से आपकी गाड़ी पुलिस थाने में जप्त हो गई है, तो थाने से गाड़ी छुड़वाने का एक ही तरीका होता है जिसके बारे में हम बात करेंगे-
 मान लो आपकी गाड़ी का एक्सीडेंट हुआ हो या फिर ऐसी कोई कंडीशन हो जिसमें पुलिस आपकी गाड़ी को जप्त कर लेती है, तो उसके साथ-साथ गाड़ी के इंश्योरेंस, ड्राइविंग लाइसेंस और गाड़ी की आरसी भी जप्त कर लेती है।
ऐसी कंडीशन में आप डायरेक्ट गाड़ी को पुलिस स्टेशन से नहीं छुड़वा सकते हैं इसके लिए आपको District court में जाना होगा।
आपको किस कोर्ट में जाना है यह वहां के पुलिस थाने के एरिया पर निर्भर करता है।
जब आप कोर्ट में जाएंगे वहां आपको एक वकील की जरूरत पड़ेगी।
वकील की मदद से आप गाड़ी को कोर्ट से छुड़वा सकते हैं।
एडवोकेट सेक्शन 451 सीआरपीसी में एक एप्लीकेशन फॉर्मेट को टाइप करवाता है उसके साथ अपना वकालतनामा लगवाता है, आपके साइन करवाता है। कोर्ट से गाड़ी केवल वही व्यक्ति छुड़वा सकता है जो गाड़ी का मालिक हो।

अगर गाड़ी चोरी का केस हो If there is a case of car theft

अगर चोरी का केस होगा तो आपके पास से गाड़ी के कागज होंगे जैसे की गाड़ी की RC, driving license and car insurance paper होंगे
यह सभी डाक्यूमेंट्स आपको कोर्ट में लेकर जानने होंगे, इन डोकोमेंट्स की कॉपी आपके फाइल के साथ जुड़ी होगी तथा आईडी भी लगी होगी।
यह सारे पेपर आपको एडवोकेट के द्वारा कोर्ट में पेश करवाने होंगे।

अगर गाड़ी का एक्सीडेंट हुआ हो If the car accident happened

अगर गाड़ी का एक्सीडेंट हुआ था तो पहले से ही गाड़ी के पेपर साथ ही जप्त कर लिए गए थे आपकी गाड़ी की आरसी, ड्राइविंग लाइसेंस और इंश्योरेंस पेपर।
इस स्थिति में आपको सिर्फ केवल अपनी आईडी लेकर जानी होगी और गाड़ी के सारे पेपर आपकी फाइल में पहले से ही अटैच होंगे। तो इस स्थिति में क्यों आपको एक आईडी की जरूरत ही पड़ती है।
 जब आपकी एप्लीकेशन को कोर्ट में पेश कर दिया जाता है उसके बाद एक नई तारीख मिल जाती है, चाहे तो आप अगले दिन की ही तारीख ले सकते हैं। या फिर किसी अन्य दिन की ले सकते हैं।
इस प्रोसेस के बाद कोर्ट पुलिस थाने में, जहां पर आप की गाड़ी को जप्त किया हुआ है उसको एक लेटर जारी कर देता है, इस लेटर में यह लिखा होता है कि इसी से रिलेटेड साधन को छुड़वाने के लिए उसके मालिक ने कोर्ट में एक एप्लीकेशन लगाई है इसलिए उस साधन से संबंधित डायरी को कोर्ट में पेश किया जाए।
यह डायरी उस तारीख को कोर्ट में पेश की जाती है जो तारीख़ आपके वकील ने ली होती है।
इसी तारीख को पुलिस ऑफिसर इस  डायरी को कोर्ट में प्रजेंट करता है।

➤ इसके लिए आपको एक चीज और ध्यान देनी होगी जिसमें यह बात आती है की जितनी वैल्यू कि आपकी गाड़ी की इंश्योरेंस है उससे ज्यादा अमाउंट की आपको कोर्ट में जमानत पेश करनी होती है या कोर्ट आपसे ऐसी जमानत मांगती है कि आपकी गाड़ी की  ₹50,000 रुपए की इंश्योरेंस वैल्यू(Insurance value) है तो कोर्ट में आपको ₹60,000 से लेकर ₹65000 या कितनी भी जमानत पेश करने के लिए कोर्ट कहती है।

➤जमानती कोई भी आपका दोस्त, रिश्तेदार या परिवार का कोई भी सदस्य हो सकता है जो कि उसकी जमानत देगा।
आपके सारे पेपर कोर्ट में जमा होने के बाद कोर्ट ऑर्डर करेगा।
कोर्ट आपको एक लेटर देगा जिसे लेकर आपको उस थाने में जाना होगा जिसमें आपकी गाड़ी जप्त है।
लेटर थाने में देते वक़्त पुलिस वाले आपसे कुछ रेगुलर फॉर्मेलिटी पूरी करवाते हैं। यह फॉर्मेलिटीज पूरी होने के बाद आपकी गाड़ी आपको दे दी जाती है।

ड्रिंक एंड ड्राइव केस Drink and drive case-

अगर आपकी गाड़ी ड्रिंक एंड ड्राइव के कारण जप्त हो गई है तो ऐसी स्थिति मैं भी आपकी गाड़ी कोर्ट से ही छूटवाई जाती है इसमें भी आपको एडवोकेट की जरूरत पड़ती है जिसमें भी आप एक एप्लीकेशन को कोर्ट में पेश करते हैं और कोर्ट आप पर एक मामूली सा जुर्माना लगाती है जिसे चुकाने के बाद कोर्ट एक लेटर को इश्यू कर देता है जिसे आप पुलिस स्टेशन में दिखाकर अपनी गाड़ी को छुड़वा सकते हैं। इस प्रक्रिया में आप को जमानत नहीं करवानी होती है।

➤ड्रिंक एंड ड्राइव के मामले में आप अपराध को स्वीकार भी कर सकते हैं इससे आपके गवर्नमेंट जॉब और कैरियर पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा।

➤मान लीजिए कोई बच्चा गाड़ी चला रहा है और उसके पास लाइसेंस और कागज भी नहीं थे और उसको पुलिस ने पकड़ लिया हो और उसकी गाड़ी को थाने में जप्त कर लिया हो,तो यहां पर आप थाने में जाकर चालान जमा करवाकर गाड़ी छुड़वा सकते हैं या फिर आप कोर्ट में जाकर भी उपर्युक्त तरीके से गाड़ी को छुड़वा सकते हैं।

➤चोरी वाले मामले में आपको गाड़ी तुरंत भी मिल जाती है लेकिन दुर्घटना वाले केस में आपको गाड़ी लेने में थोड़ी कठिनाई आती है।

➤इस प्रकार से आप अपनी गाड़ी/वाहन को पुलिस स्टेशन से छुड़वा सकते है vehicle release police station.