सामाजिक विज्ञान दैनिक पाठ योजना social science lesson plan pdf

 social science lesson plan

सामाजिक विज्ञान दैनिक पाठ योजना

social science lesson plan सामाजिक विज्ञान दैनिक पाठ योजना
 
SST LESSON  PLAN PAGE 1

 विद्यालय

 दिनांक-

 विषय

 कक्षा- 8

 कालांश

 अवधि- 30 मिनट

 प्रकरण - राजस्थान के प्रमुख उद्योग

शिक्षण उद्देश्य-

S.N

प्राप्य उद्देश्य

अपेक्षित व्यवहारगत परिवर्तन

1.

ज्ञानात्मक

1. विद्यार्थी उद्योगों से संबंधित ज्ञान का प्रत्यास्मरण कर सकेंगे।

2.विद्यार्थी राजस्थान के प्रमुख उद्योग के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे।

2.

अवबोधात्मक

1.विद्यार्थी राजस्थान के प्रमुख उद्योग के संबंध में व्याख्या कर सकेंगे।

3.

अनुप्रयोगात्मक

1.विद्यार्थी राजस्थान के प्रमुख उद्योगों से संबंधित ज्ञान का व्यावहारिक जीवन में उपयोग कर सकेंगे।

4.

कोशलात्मक

1.विद्यार्थी राजस्थान के प्रमुख उद्योग से संबंधित सारणी बना सकेंगे।

2.विद्यार्थी राजस्थान के प्रमुख उद्योग से संबंधित चार्ट बनाने का कौशल विकसित कर सकेंगे।

5.

अभिवृति

1.विद्यार्थी राजस्थान के प्रमुख उद्योग के संबंध में सकारात्मक दृष्टिकोण विकसित कर सकेंगे।

6.

अभिरुचि

1.विद्यार्थी राजस्थान के प्रमुख उद्योग से संबंधित पत्र पत्रिकाओं, पाठ्य पुस्तकों एवं अन्य संबंधित साहित्य के बारे में रुचि विकसित कर सकेंगे।

SST LESSON  PLAN PAGE 2

शिक्षण बिन्दु-

1. सीमेंट उद्योग

2. चीनी उद्योग

3. वस्त्र उद्योग

शिक्षण सहायक सामग्री-

 राजस्थान के प्रमुख उद्योग से संबंधित चार्ट एवं अन्य कक्षा प्रयोगी सहायक सामग्री।

पूर्वज्ञान-

विद्यार्थी राजस्थान के प्रमुख उद्योग के बारे में सामान्य जानकारी रखते हैं। 

प्रस्तावना प्रश्न-

S.N

छात्राध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

1.

 विश्व में ब्रह्मा जी का मंदिर कहां स्थित है?

 पुष्कर में

2.

 पुष्कर किस जिले में आता है?

 अजमेर

3.

 अजमेर कौन से राज्य का भूभाग है?

 राजस्थान का

4.

 राजस्थान की प्रमुख उद्योग कौन-कौन से हैं?

 चीनी उद्योग, सीमेंट उद्योग, वस्त्र उद्योग

5.

 इन उद्योगों के बारे में आप क्या जानते हैं?

 समस्यात्मक प्रश्न

उद्देश्य कथन-

 आज हम राजस्थान की प्रमुख उद्योगों के बारे में विस्तार से अध्ययन करेंगे।

SST LESSON  PLAN PAGE 3

प्रस्तुतिकरण(पाठ का विकास)-

शिक्षण बिन्दु

छात्राध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

श्यामपट्ट सार

1.सीमेंट उद्योग

विकासात्मक प्रश्न-

1. मनुष्य की मूलभूत आवश्यकता है क्या-क्या है?

2.मकान बनाने के लिए किन-किन चीजों की आवश्यकता होती है?

3. सीमेंट उद्योग के बारे में बताइए।

 

भोजन, कपड़ा, मकान।

सीमेंट, चूना, ईट इत्यादि।

निरुत्तर

 

 

छात्राध्यापक कथन-

 सीमेंट उद्योग का वृहद उद्योगों में प्रमुख स्थान है। इसके विकास के लिए राज्य में भौगोलिक परिस्थितियां अनुकूल है। चूने के पत्थर की खदानों के निकट अधिकांश सीमेंट उद्योग की स्थापना हुई है।राज्य में चित्तौड़गढ़, निंबाहेड़ा, लाखेरी, ब्यावर, सिरोही आदि उद्योग के प्रमुख केंद्र है।

सन 1951 में 2 कारखाने लाखेरी व समय माधोपुर में स्थापित किए गए थे। वर्तमान में निंबाहेड़ा मोडक आदि में उत्पादन हो रहा है। राज्य में सफेद सीमेंट का उत्पादन गोटन-नागौर व खारिया- जोधपुर में हो रहा है।

 




विद्यार्थी ध्यानपूर्वक सुनेंगे।

 


सीमेंट उद्योग के प्रमुख केंद्र-चित्तौड़गढ़ निंबाहेड़ा लाखेरी ब्यावर सिरोही आदि।

 

बोध प्रश्न-

 1. सन 1951 में राजस्थान में सीमेंट उद्योग कहां पर लगी?

2. वर्तमान में कहां पर सीमेंट का उत्पादन हो रहा है

 

लाखेरी व सवाई माधोपुर

निंबाहेड़ा मोडक में।

 

2.चीनी उद्योग

विकासात्मक प्रश्न-

 1. देवताओं को भोग किससे लगाया जाता है?

2. मिठाइयों को मीठा बनाने के लिए किस चीज की आवश्यकता होती है?

3. चीनी उद्योग से क्या आशय है?

 

मिठाइयों से।

चीनी की।

निरूतर

 

 

छात्राध्यापक कथन-

 राजस्थान में सर्वप्रथम चीनी उद्योग 'द मेवाड़ शुगर मिल' के नाम से 1932 में चित्तौड़गढ़ जिले के भोपाल सागर में प्रारंभ किया गया। इसके बाद भी 1932 में दी गंगानगर शुगर मिल्स तथा सहकारी क्षेत्र में बूंदी के केशोरायपाटन में चीनी मिलों की स्थापना हुई। प्राय इस उद्योग को गन्ना उत्पादक क्षेत्र के समीप स्थापित किया जाता है अतः श्रीगंगानगर, बूंदी में चीनी उद्योग के कारखाने स्थित हैं।

 



विद्यार्थी ध्यान पूर्वक सुनेंगे व तथ्य को समझेंगे।

 


स्थापना -राजस्थान में सर्वप्रथम 1932 में चित्तौड़गढ़ के भोपाल सागर में।

 

बोध प्रश्न-

 1. सर्वप्रथम चीनी मिल किस नाम से लगाई गई?

2. चीनी उद्योग के कारखाने कहां कहां स्थित है?

 

द मेवाड़ शुगर मिल।

श्रीगंगानगर और बूंदी।

 

3.वस्त्र उद्योग

विकासात्मक प्रश्न-

 1. कपास से क्या-क्या चीजें तैयार की जाती है?

2. सूत से क्या बनाए जाते हैं?

3. वस्त्र उद्योग से क्या आशय है?

 

सूत्र धागा ।वस्त्र कागज आदि।

निरुत्तर।

 

 

छात्राध्यापक कथन-

 वर्तमान में राज्य में अधिक सूती वस्त्र की मिले हैं। पहली मिल सन 1889 में ब्यावर में स्थापित की गई। किशनगढ़, विजयनगर, भीलवाड़ा, हनुमानगढ़, उदयपुर गंगापुर जयपुर भवानी मंडी, कोटा आदि स्थानों पर सूती वस्त्र उद्योग के कारखाने लगे हुए हैं। राजस्थान का वस्त्र निर्माण में प्रमुख स्थान है। भीलवाड़ा वस्त्र नगरी के नाम से जाना जाता है। राजस्थान में वस्तुओं की रंगाई छपाई तथा बंधेज कार्य हेतु जयपुर, जोधपुर, बगरू, सुजानगढ़, कालाडेरा, लाडनूं, चूरू, बीकानेर रतनगढ़, नागौर आदि प्रमुख केंद्र है।

 




विद्यार्थी तथ्यों को अपनी उत्तर पुस्तिका में नोट करेंगे।

 


स्थापना पहली मील सन 1889 में ब्यावर में।

 

बोध प्रश्न-

 1.पहली वस्त्र मिल कौन सी सन में कहां स्थापित की गई?

2. भीलवाड़ा को किस नाम से जाना जाता है?

 

1889 में ब्यावर।

वस्त्र नगरी।

 

SST LESSON  PLAN PAGE 4

मूल्यांकन प्रश्न-

1.कौन सा जिला वस्त्र नगरी के नाम से भी जाना जाता है?

        जयपुर जोधपुर अजमेर भीलवाड़ा   

2. प्राय .......उद्योग को गन्ने उत्पादक क्षेत्र के समीप स्थापित किया जाता है।

3. सन 1951 में सीमेंट उद्योग के कितने कारखाने कहां कहां स्थापित किए ?

4. वर्तमान में राज्य में सूती वस्त्र की कितनी मिले हैं?

5. वस्त्रों की रंगाई छपाई और बंधेज का कार्य कहां किया जाता है?

गृहकार्य-

1. राजस्थान के प्रमुख उद्योगों के बारे में वर्णन कीजिए।

➤यह भी पढ़े -

नागरिक शास्त्र का लेसन प्लान 

गणित के लेसन प्लान 

बीएड का फाइनल लेसन प्लान कैसे बनाएं

बीएड माइक्रो टीचिंग डायरी कैसे बनाएं

विज्ञान पाठ योजना