जीव विज्ञान पाठ योजना | Biology lesson plan in hindi pdf for B.ed | biology lesson plan formats

 biology lesson plan formats

 जीव विज्ञान पाठ योजना | Biology lesson plan in hindi for B.ed

 नोट :-इस biology के लेसन प्लान को सही से देखने के लिए desktop browser का प्रयोग करे...

biology lesson plan formats  जीव विज्ञान पाठ योजना | Biology lesson plan in hindi for B.ed

पाठ्य योजना-1 (जीव विज्ञान पाठ योजना)

पाठ्य योजना क्रमांक-                                                      दिनांक-

कक्षा-                                                                           वर्ग-

प्रकरण- पोधो के प्रकार                                                    कालखण्ड- प्रथम

विषय- जीव विज्ञान                                                          औसत आयु -

विद्यालय-

 

1.सामान्य उद्देश्य-

                                                                            1. छात्रों में जीव विज्ञान के प्रति रूचि एवं जिज्ञासा जाग्रत करना

                                                                            2. छात्रों में वैज्ञानिक दृष्टिकोण विकसित करना

                                                                            3. छात्रों में अपेक्षित व्यवहार परिवर्तित करना

                                                                            4. छात्रों में जीव विज्ञान के विभिन्न शब्दों का ज्ञान होना

2.विशिष्ट उद्देश्य-                                                छात्रों को पोधों के प्रकारों के बारें में विस्तृत जानकारी देना

3.शिक्षण सहायक सामग्री -                          लपेट फलक श्यामपट्ट, पोधों के प्रकारों का चार्ट 

4.पूर्व ज्ञान-                                               छात्र पोधों के प्रकारों के विषय के बारें में आंशिक ज्ञान रखते है

5.प्रस्तावना -

                                            प्रश्न           

सम्भावित उत्तर

1.जीव कितने प्रकार के होते है ?

2 प्रकार के

2.जीवों के दो प्रकार बताइए ?

सजीव व निर्जीव

3.सजीव कितने प्रकार के होते है ?

2 प्रकार के

4.सजीवों के 2 प्रकार बताइए ?

जंतु व पादप

5.पादप कितने प्रकार के होते है ?

समस्यात्मक प्रश्न

 

6.उद्देश्य कथन-

                    आज हम पोधों के प्रकारों के विषय में अध्ययन करेंगे

 

प्रस्तुतीकरण

शिक्षण विधियाँ -                                                1.व्याख्यात्मक विधि   2.प्रश्नोतर विधि

विषय वस्तु का क्रमिक विकास -                            1. प्रथम अन्विति: आकर व आयु के आधार पर पोधों के प्रकार

                                                                     2. द्वितीय अन्विति: आरोहण व इसके आधार पर पोधों के प्रकार

 

प्रथम अन्विति:

विषय वस्तु

शिक्षक क्रिया

छात्र क्रिया

श्यामपट्ट कार्य

आकार के आधार पर पोधों के प्रकार

शिक्षक कथन- आकर के आधार पर पोधों को 3 भागों में बाँटा जाता है - शाक,झाड़ी व वृक्ष

शाकीय पादपो का तना हरा होता है व इनकी उचाई 1 मीटर से भी कम होती है तथा तना कोमल होता है इसके उदाहरण-गेहूं,चावल,सरसों

झाड़ी में तना छोटा,कठोर,भूरे रंग का व शाखाए निचले भाग से निकलती है उदाहरण-गुलाब,आक,कनेर

वृक्ष में तना ऊचा, मोटा,कठोर व भूरे रंग का होता है उदाहरण-बरगद,पीपल आदि   

छात्र-छात्राओं ने पोधो के प्रकारों को समझा व ध्यानपूर्वक सुना

 

आकर के आधार पर पोधों को 3 भागों में बाँटा गया है - शाक,झाड़ी व वृक्ष

 

विकासात्मक प्रश्न

प्रश्न-1.आकार के आधार पर पोधों कितने प्रकार के होते है ?

 3 प्रकार के

 

प्रश्न-2. वृक्ष के उदाहरण बताइए

बरगद,पीपल आदि  

 

प्रश्न-3. आयु के आधार पर पोधों कितने प्रकार के होते है ?

निरुतर

 

आयु के आधार पर पोधों प्रकार

शिक्षक कथन- आयु के आधार पर पोधों को 3 प्रकारों में बाँटा जा सकता है - एकवर्षीय,दिवर्षीय व बहुवर्षीय |

एकवर्षीय पादपो को वार्षिक पादप भी कहते है इनका जीवनकाल 1 वर्ष या 1 ऋतू का होता है जैसे-मक्का,ज्वार,बाजरा आदि

दिवार्षिक पादप- इनका जीवनकाल 2 वर्षो का होता है जैसे-गन्ना

बहुवर्षीय- इनका जीवनकाल 2 वर्षो से अधिक का होता है जैसे-नीम,बबूल,खेजड़ी

छात्र-छात्राओं ने आयु के आधार पर पोधों के प्रकारों को समझा व नोट किया

 

 

आयु के आधार पर पोधों को 3 प्रकारों में बाँटा जा सकता है - एकवर्षीय,दिवर्षीय व बहुवर्षीय

 

 

 

सामान्यीकरण प्रश्न

उत्तर

 

प्रश्न 1.

एकवर्षीय पादपो के उदाहरण लिखिए-

मक्का,ज्वार,बाजरा आदि

 

प्रश्न 2.

बहुवर्षीय पादपों का जीवनकाल कितना होता है

2 वर्ष से अधिक

 

 

द्वितीय अन्विति

विषय वस्तु

शिक्षक क्रिया

छात्र क्रिया

श्यामपट्ट कार्य

आरोहण -

शिक्षक कथन- आरोहण द्वारा कमजोर पादप ऊपर की और किसी सहारे के चढ़ते है इनका तना कमजोर होता है ये किसी सहारे के लिपट कर अपनी वृद्धि ऊपर की और करते है -जैसे-जूही,चमेली,अंगूर

छात्र-छात्राओं ने आरोहण के पोधों के बारें में समझा व नोट किया

 

 जैसे-जूही,चमेली,अंगूर

विकासात्मक प्रश्न

प्रश्न-1. आरोहण पादप होते है

कमजोर

 

प्रश्न-2. आरोहण पादपों के उदाहरण बताइए-

जूही,चमेली,अंगूर

 

प्रश्न-3. आरोहण के आधार पर पादप कितने प्रकार के होते है?

निरुतर

 

आरोहण के आधार पर प्रकार -

शिक्षक कथन- आरोहण के आधार पर पादप दो प्रकार के होते है-1. आरोही 2.वल्लरी

1.आरोही पोधें - इनमे धागे समान रचना प्रतान होता है जिससे ये ऊपर की और बढ़ते है इनके उदारण-लोकी,अंगूर,खीरा

2.वल्लरी पोधें- इनमें प्रतान जैसी संरचना नही पाई जाती है इनका तना स्वयं किसी सहारे के लिपट कर ऊपर की और वृद्धि करता है इनके उदाहरण-रेल्वे क्रीपर,चमेली,जूही व बोगेनविलिया 

छात्र-छात्राओं ने आरोहण के आधार पर पोधों के बारें में समझा व नोट किया

 

आरोहण के आधार पर पादप दो प्रकार के होते है-

1. आरोही 2.वल्लरी

 

 

 

सामान्यीकरण प्रश्न

उत्तर

 

 

प्रश्न 1. आरोहण के आधार पर पोधें कितने प्रकार के होते है?

2 प्रकार

 

 

प्रश्न 2. वल्लरी पोधें के उदाहरण दीजिये-

रेल्वे क्रीपर,चमेली,जूही व बोगेनविलिया 

 

 

पुनरावृति

प्रश्न-1

आयु के आधार पर पोधों के प्रकारों को उदाहरण सहित लिखिए-

प्रश्न-2

आरोहण के आधार पर पोधों के प्रकार लिखिए-

प्रश्न-3

आकार के आधार पर पोधों का वर्णन कीजिये-

 

अभ्यास कार्य

प्रश्न

रिक्त स्थानो की पूर्ति कीजिये

प्रश्न-1

आरोहण के आधार पर पादप ..............प्रकार के होते है-

प्रश्न-2

एकवर्षीय पादपो को ............. पादप भी कहते है

प्रश्न-3

शाकीय पादपो का तना...........होता है

 

गृहकार्य

प्रश्न-1

आरोहण के 5 उदाहरण लिखिए-

प्रश्न-2

आकार,आयु के आधार पर पोधों के प्रकारों का उदाहरण सहित वर्णन कीजिये-

25 फिजिक्स लेसन प्लान देखें 

20 केमिस्ट्री लेसन प्लान बुक देखें

20 बायोलॉजी लेसन प्लान बुक देखें

20 साइंस लेसन प्लान बुक देखें

20 नागरिक शास्त्र लेसन प्लान बुक देखें  

20 अर्थशास्त्र  लेसन प्लान देखें

Read Also-

विज्ञान पाठ योजना
शिक्षा की परिभाषाएं
साइंस लेसन प्लान इन हिंदी

और नया पुराने